HAI LAB E ISAA SEY JAAN BAKHSHI NIRALI HAATH MAIN NAAT LYRICS

HAI LAB E ISAA SEY JAAN BAKHSHI NIRALI HAATH MAIN NAAT LYRICS

 

है लबे ई़सा से जां बख़्शी निराली हाथ में
संगरेज़े पाते हैं शीरीं मक़ाली हाथ में

बे नवाओं की निगाहें हैं कहां तह़रीरे दस्त
रह गई जो पा के जूदे ला यज़ाली हाथ में

क्या लकीरों में यदुल्लाह ख़त़ सरो आसा लिखा
राह यूं उस राज़ लिखने की निकाली हाथ में

जूदे शाहे कौसर अपने प्यासों का जूया है आप
क्या अ़जब उड़ कर जो आप आए पियाली हाथ में

अब्रे नैसां मोमिनों को तैग़े उ़र्यां कुफ़्र पर
जम्अ़ हैं शाने जमाली व जलाली हाथ में

मालिके कौनैन हैं वो पास कुछ रखते नहीं
दो जहां की ने-मतें हैं इन के ख़ाली हाथ में

साया अफ़्गन सर पे हो परचम इलाही झूम कर
जब लिवाउल ह़म्द ले उम्मत का वाली हाथ में

हर ख़त़े कफ़ है यहां ऐ दस्ते बैज़ाए कलीम
मोज-ज़न दरियाए नूरे बे मिसाली हाथ में

वोह गिरां संगिये क़दरे मस वोह इरज़ानिये जूद
नौइ़या बदला किये संगो लआली हाथ में

दस्त-गीरे हर दो आलम कर दिया सिब्त़ैन को
ऐ मैं क़ुरबां जाने जां अंगुश्त क्या ली हाथ में

आह वोह आलम कि आंखें बन्द और लब पर दुरूद
वक़्फ़ संगे दर जबीं रौज़े की जाली हाथ मे

जिस ने बैअ़त की बहारे ह़ुस्न पर क़ुरबां रहा हैं
लकीरें नक़्श तस्ख़ीरे जमाली हाथ में

काश हो जाऊं लबे कौसर मैं यूं वारफ़्ता होश
ले कर उस जाने करम का ज़ैल आली हाथ में

आंख मह़्‌वे जल्वए दीदार दिल पुर जोशे वज्द
लब पे शुक्रे बख़्शिशे साक़ी पियाली हाथ में

ह़श्र में क्या क्या मज़े वारफ़्तगी के लूं रज़ा
लौट जाऊं पा के वोह दामाने आली हाथ में

Submit by Muhammad Usman Raza Qadri

Hai labe Isa se jan bakshi nirali hath mai
Sang reze paate hain shereen makali hath me.

Be nawaon ki niga heen hain kahan tahreer e dust
Raha gain jo paak e jod e lazawali hath me.

Kya lakiron mein yadullah khat e saro Aasa likha
Raha yoon is raaz likhne ki nikali hath me.

Jode shahe kaosar apne piyason ka joya hai aap
Kiya ajab ud ker jo aap ajaye piyali hath me.

Ab re nisa momino ko tyge iriyan kofr per
Jamma hain shan e jamal o jalali hath me.

Malik e konine hain go pass kuchh rakhte nahin
Do Jahan ki nemat e Hain unke Khali hath mein.

Har khat e kaf hai yahan ayee daste be zaye kaleem,
Maoj zan deryaye noore be misali hath me.

Wo giran sangi khadre mas wo arzani jood,
Naw aya badla kiyee sang o la ali hath mein.

Dast gir e herdo alam kar diya sibteen ko
Ayee mai qurba jane jaa angusht kiyali hath me.

Kash hojaon lab e kausar me yoon Warafta hoosh
Le ker us jane Karam ka zeel e aali Hath Mein.

Ankh mahwey jalwa e dedaar Dil pur joosh e wajd
Lab pe shukr e baqshish e saqi piyali hath me.

Har khate kaf hai yahan aye daste be zaye kaleem,
Moaj zan deryaye noore be misaali hath me.

Aaha wo alam ki ankhen band aur lab per durood
Waqf e sang e der jabeen raoze ki jali hath me

Jisne baiet ki bahar e husn per qurban raha
Hain lakireen naqsh taskire jamali hath me.

Hashr mein kya kya mzje Warafta gii ke loon raza
Lot jaon Pa ke wo Damane Ali hath mein.

Leave a Reply