Poochte Kya Ho Arsh Par Yun Gaye Mustafa Ke Yun NAAT LYRICS

Poochte Kya Ho Arsh Par Yun Gaye Mustafa Ke Yun NAAT LYRICS

 

 

पूछते क्या हो अ़र्श पर यूं गए मुस्तफ़ा कि यूं
कैफ़ के पर जहां जले कोई बताए क्या कि यूं
Poochte Kya Ho Arsh Par Yu(n) Gaye Mustafa Ke Yu(n)
Kaif Ke Parr Jaha(n) Jale Koyi Bataye Kya Ke Yu(n)

 

क़स्-रे दना के राज़ में अ़क़्ले तो गुम हैं जैसी हैं
रूह़े कुदुस से पूछिये तुम ने भी कुछ सुना कि यूं
Qasre D(a)na Ke Raaz Me Aqle To Gum Hein Jaisi Hein
Ruhe Qudus Se Poochhiye Tum Ne Bhi Kuch Suna Ke Yu(n)

 

मैं ने कहा कि जल्वए अस्ल में किस त़रह़ गुमें
सुब्ह़ ने नूरे मेह़र में मिट के दिखा दिया कि यूं
Maine Kaha Ki Jalwa-E Asl Me Kis Tarah Gume(n)
Subha Ne Noore Mehr Me Mit Ke Dikha Diya Ke Yu(n)

 

हाए रे ज़ौक़े बे खुदी दिल जो संभलने सा लगा
छक के महक में फूल की गिरने लगी सबा कि यूं
Haaye Re Zouq-E Bekhudi Dil Jo Sambhalne Sa Laga
Chhak Ke Mahak Me Phool Ki Girne Lagi Sabaa Ke Yu(n)

 

दिल को दे नूरो दाग़े इ़श्क़ फिर मैं फ़िदा दो नीम कर
माना है सुन के शक़्के माह आंखों से अब दिखा कि यूं
Dil Ko De Noor-o Daaghe Ishq Phir Mai Fida Do Neem Kar
Maana Hai Sun Ke Shaqke Maah Aankho(n) Se Ab Dikha Ke Yu(n)

 

दिल को है फ़िक्र किस त़रह़ मुर्दे जिलाते हैं हुज़ूर
ऐ मैं फिदा लगा कर एक ठोकर इसे बता कि यूं
Dil Ko Hai Fikr Kis Tarah Murde Jilaate Hein Huzoor
Ay Mai Fida Laga Kar Ek Thokar Ise Bataa Ke Yu(n)

 

बाग़ में शुक्रे वस्ल था हिजर् में हाए हाए गुल
काम है उन के ज़िक्र से ख़ैर वोह यूं हुवा कि यूं
Baagh Me Shukre Wasl Tha Hijr Me Haaye Haaye Gul
Kaam Hai Unke Zikr Se Khair Woh Yu(n) Hua Ke Yu(n)

 

जो कहे शे’रो पासे शर-अ़ दोनो का हुस्न क्यूंकर आए
ला उसे पेशे जल्वए ज़म-ज़-मए रज़ा कि यूं
Jo Kahe She’ro Paase Shar’aa Dono Ka Husn Kyu(n) Kar Aaye
La Use Pesh-e Jalwa-E Zam Zam-E Ke Yu(n)

 

Leave a Reply