Sayyid Ul Auliya Naaib E Mustafa Mere Gaus Ul Wara Ibn E Sher E Khuda Lyrics

Sayyid Ul Auliya Naaib E Mustafa Mere Gaus Ul Wara Ibn E Sher E Khuda Lyrics

 

 

Sayyid Ul Auliya Naaib E Mustafa Mere Gaus Ul Wara Ibn E Sher E Khuda Lyrics

Gaus E Aa’zam Jeelaani
Gaus E Aa’zam Jeelaani

Meeraan Meeraan Meeraan Meeraan
Meeraan Meeraan Meeraan

Sayyid Ul Auliya Naaib E Mustafa
Mere Gaus Ul Wara Ibn E Sher E Khuda

Sayyid Ul Auliya Naaib E Mustafa
Sayyid Ul Auliya Naaib E Mustafa

Ik Siwa Aap Ke Baa Khuda Kaun Hai
Qasmen De De Ke Jis Ko Khilaae Khuda

Sayyid Ul Auliya Naaib E Mustafa
Sayyid Ul Auliya Naaib E Mustafa

Aasmaan E Wilaayat Ke Chaand Aap Hain
Aap Hain Bazm E Kul Auliya Ki Ziya

Sayyid Ul Auliya Naaib E Mustafa
Sayyid Ul Auliya Naaib E Mustafa

Ban Ke Saariq Jo Aaya Tha Ghar Aap Ke
Ban Ke Nikla Wali, Ho Gai Jab ‘Ata

Sayyid Ul Auliya Naaib E Mustafa
Sayyid Ul Auliya Naaib E Mustafa

Is Men Itwaar Ka Din Na Aae Kabhi
Main Karun Naukri Aap Ki Taa Jaza

Sayyid Ul Auliya Naaib E Mustafa
Sayyid Ul Auliya Naaib E Mustafa

Aasra Mil Gaya Kashti E Jaan Ko Phir
Al Madad Gaus, Jab Dil Se Main Ne Kaha

Sayyid Ul Auliya Naaib E Mustafa
Mere Gaus Ul Wara Ibn E Sher E Khuda

Sayyid Ul Auliya Naaib E Mustafa
Sayyid Ul Auliya Naaib E Mustafa

Meeraan Meeraan Meeraan Meeraan
Meeraan Meeraan Meeraan

 

 

सय्यिद-उल-औलिया, नाइब-ए-मुस्तफ़ा, मेरे ग़ौस-उल-वरा, इब्न-ए-शेर-ए-ख़ुदा /

Sayyid-ul-Auliya, Naaib-e-Mustafa, Mere Ghaus-ul-Wara, Ibn-e-Sher-e-Khuda

ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !
ग़ौस-ए-आ’ज़म जीलानी !

मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ !
मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ !

सय्यिद-उल-औलिया ! नाइब-ए-मुस्तफ़ा !
मेरे ग़ौस-उल-वरा ! इब्न-ए-शेर-ए-ख़ुदा !

सय्यिद-उल-औलिया ! नाइब-ए-मुस्तफ़ा !
सय्यिद-उल-औलिया ! नाइब-ए-मुस्तफ़ा !

इक सिवा आप के बा-ख़ुदा कौन है
क़स्में दे दे के जिस को खिलाए ख़ुदा

सय्यिद-उल-औलिया ! नाइब-ए-मुस्तफ़ा !
सय्यिद-उल-औलिया ! नाइब-ए-मुस्तफ़ा !

आसमान-ए-विलायत के चाँद आप हैं
आप हैं बज़्म-ए-कुल-औलिया की ज़िया

सय्यिद-उल-औलिया ! नाइब-ए-मुस्तफ़ा !
सय्यिद-उल-औलिया ! नाइब-ए-मुस्तफ़ा !

बन के सारिक़ जो आया था घर आप के
बन के निकला वली, हो गई जब ‘अता

सय्यिद-उल-औलिया ! नाइब-ए-मुस्तफ़ा !
सय्यिद-उल-औलिया ! नाइब-ए-मुस्तफ़ा !

इस में इतवार का दिन न आए कभी
मैं करूँ नौकरी आप की ता-जज़ा

सय्यिद-उल-औलिया ! नाइब-ए-मुस्तफ़ा !
सय्यिद-उल-औलिया ! नाइब-ए-मुस्तफ़ा !

आसरा मिल गया कश्ती-ए-जाँ को फिर
अल-मदद ग़ौस, जब दिल से मैं ने कहा

सय्यिद-उल-औलिया ! नाइब-ए-मुस्तफ़ा !
मेरे ग़ौस-उल-वरा ! इब्न-ए-शेर-ए-ख़ुदा !

सय्यिद-उल-औलिया ! नाइब-ए-मुस्तफ़ा !
सय्यिद-उल-औलिया ! नाइब-ए-मुस्तफ़ा !

मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ !
मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ ! मीराँ !

शायर:
इस्माईल क़दीर क़ादरी

ना’त-ख़्वाँ:
सय्यिद ग़ुलाम मुह्युद्दीन क़ादरी

Leave a Reply