Aakhiri Roze Hain Dil Ghamnaak Muztar Jaan Hai Lyrics

Aakhiri Roze Hain Dil Ghamnaak Muztar Jaan Hai Lyrics

 

 

आख़िरी रोज़े हैं दिल ग़मनाक मुज़्तर जान है / Aakhiri Roze Hain Dil Ghamnaak Muztar Jaan Hai

आख़िरी रोज़े हैं दिल ग़मनाक मुज़्तर जान है
हसरता वा-हसरता ! अब चल दिया रमज़ान है
‘आशिक़ान-ए-माह-ए-रमज़ाँ रो रहे हैं फूट कर
दिल बड़ा बेचैन है, अफ़्सुर्दा रूह-ओ-जान है
दर्द-ओ-रिक़्क़त से पछाड़ें खा के रोता है कोई
तो कोई तस्वीर-ए-ग़म बन कर खड़ा हैरान है
अल-फ़िराक़, आह ! अल-फ़िराक़, ए रब के मेहमाँ ! अल-फ़िराक़
अल-वदा’अ अब चल दिया तू, ए मह-ए-रमज़ान है
दास्तान-ए-ग़म सुनाएँ किस को जा कर आह ! हम
या रसूलल्लाह ! देखो चल दिया रमज़ान है
ख़ूब रोता है, तड़पता है ग़म-ए-रमज़ान में
जो मुसलमाँ क़द्र-दान-ओ-‘आशिक़-ए-रमज़ान है
वक़्त-ए-इफ़्तार-ओ-सहर की रौनक़ें होंगी कहाँ !
चंद दिन के बा’द ये सारा समाँ सुनसान है
हाए ! सद अफ़्सोस ! रमज़ाँ की न हम ने क़द्र की
बे-सबब ही बख़्श दे, या रब ! की तू रहमान है
कर रहे हैं तुझ को रो रो कर मुसलमाँ अल-वदा’अ
आह ! अब तू चंद घड़ियों का फ़क़त मेहमान है
अस्सलाम, ए माह-ए-रमज़ाँ ! तुझ पे हों लाखों सलाम
हिज्र में अब तेरा हर ‘आशिक़ हुआ बे-जान है
दस्त-बस्ता इल्तिजा है, हम से राज़ी हो के जा
बख़्शवाना हश्र में, हाँ ! तू मह-ए-ग़ुफ़रान है
काश ! आते साल हो ‘अत्तार को रमज़ाँ नसीब
या नबी ! मीठे मदीने में, बड़ा अरमान है
शायर:
मुहम्मद इल्यास अत्तार क़ादरी
ना’त-ख़्वाँ:
ओवैस रज़ा क़ादरी
मुश्ताक़ क़ादरी

aaKHiri roze hai.n, dil Gamnaak, muztar jaan hai
hasrata wa-hasrata ! ab chal diya ramzaan hai
‘aashiqaan-e-maah-e-ramzaa.n ro rahe hai.n phooT kar
dil ba.Da bechain hai, afsurda rooh-o-jaan hai
dard-o-riqqat se pachhaa.De.n khaa ke rota hai koi
to koi tasweer-e-Gam ban kar kha.Da hairaan hai
al-firaaq, aah ! al-firaaq, ai rab ke mehmaa.n ! al-firaaq
al-wadaa’a ab chal diya tu, ai mah-e-ramzaan hai
daastaan-e-Gam sunaae.n kis ko ja kar aah ! ham
ya rasoolallah ! dekho chal diya ramzaan hai
KHoob rota hai, ta.Dapta hai Gam-e-ramzaan me.n
jo musalmaa.n qadr-daan-o-‘aashiq-e-ramzaan hai
waqt-e-iftaar-o-sahar ki raunaqe.n hongi kahaa.n !
chand din ke baa’d ye saara samaa.n sunsaan hai
haae ! sad afsos ! ramzaa.n ki na ham ne qadr ki
be-sabab hi baKHsh de, ya rab ! ki tu rahmaan hai
kar rahe hai.n tujh ko ro ro kar musalmaa.n al-wadaa’a
aah ! ab tu chand gha.Diyo.n ka faqat mehmaan hai
assalaam, ai maah-e-ramzaa.n ! tujh pe ho.n laakho.n salaam
hijr me.n ab tera har ‘aashiq huaa be-jaan hai
dast-basta iltija hai, ham se raazi ho ke jaa
baKHshwaana hashr me.n, haa.n ! tu mah-e-Gufraan hai
kaash ! aate saal ho ‘Attar ko ramzaa.n naseeb
ya nabi ! meeThe madine me.n, ba.Da armaan hai
Poet:
Muhammad Ilyas Attar Qadri
Naat-Khwaan:
Owais Raza Qadri
Mushtaq Qadri

Leave a Reply