Ai Habeeb Ahmad-e-Mujtaba Dil-e-Mubtala Ka Salaam Lo Lyrics

Ai Habeeb Ahmad-e-Mujtaba Dil-e-Mubtala Ka Salaam Lo Lyrics

 

 

ए हबीब ! अहमद-ए-मुज्तबा ! दिल-ए-मुब्तला का सलाम लो / Ai Habeeb ! Ahmad-e-Mujtaba ! Dil-e-Mubtala Ka Salaam Lo

ए हबीब ! अहमद-ए-मुज्तबा ! दिल-ए-मुब्तला का सलाम लो
जो वफ़ा की राह में खो गया, उसी गुम-शुदा का सलाम लो
मैं तलब से बाज़ न आऊँगा, तू करम का हाथ बढ़ाए जा
जो तेरे करम से है आश्ना, उसी आश्ना का सलाम लो
ए हबीब ! अहमद-ए-मुज्तबा ! दिल-ए-मुब्तला का सलाम लो
जो वफ़ा की राह में खो गया, उसी गुम-शुदा का सलाम लो
कोई मर रहा है बहिश्त पर, कोई चाहता है नजात को
मैं तुझी को चाहूँ ख़ुदा करे, मेरी इस दुआ का सलाम लो
ए हबीब ! अहमद-ए-मुज्तबा ! दिल-ए-मुब्तला का सलाम लो
जो वफ़ा की राह में खो गया, उसी गुम-शुदा का सलाम लो
वो हुसैन जिस ने छिड़क के ख़ूँ, चमन-ए-वफ़ा को हरा किया
उसी जाँ-निसार का वास्ता के हर इक गदा का सलाम लो
ए हबीब ! अहमद-ए-मुज्तबा ! दिल-ए-मुब्तला का सलाम लो
जो वफ़ा की राह में खो गया, उसी गुम-शुदा का सलाम लो
यही रात-दिन है दुआ मेरी के मरुँ तो तेरे दयार में
यही मुद्दआ’-ए-हयात है, इसी मुद्दआ’ का सलाम लो
ए हबीब ! अहमद-ए-मुज्तबा ! दिल-ए-मुब्तला का सलाम लो
जो वफ़ा की राह में खो गया, उसी गुम-शुदा का सलाम लो
तेरे आस्ताँ की तलाश में, तेरी जुस्तुजू के ख़याल में
ए हबीब ! अहमद-ए-मुज्तबा ! दिल-ए-मुब्तला का सलाम लो
जो वफ़ा की राह में खो गया, उसी गुम-शुदा का सलाम लो
तेरा नूर हो मेरे सीने में, मिले लुत्फ़ मुझ को भी जीने में
मेरी हाज़री हो मदीने में, मेरी इस दुआ का सलाम लो
ए हबीब ! अहमद-ए-मुज्तबा ! दिल-ए-मुब्तला का सलाम लो
जो वफ़ा की राह में खो गया, उसी गुम-शुदा का सलाम लो
ये नज़र हमेशा झुकी रहे, तेरी याद दिल में बसी रहे
मेरे दिल की है यही इल्तिजा, मेरी इस हया का सलाम लो
ए हबीब ! अहमद-ए-मुज्तबा ! दिल-ए-मुब्तला का सलाम लो
जो वफ़ा की राह में खो गया, उसी गुम-शुदा का सलाम लो
तमाम औलिया के बुलंद सर हैं क़दम पे जिन के झुके हुए
उसी प्यारे ग़ौस का वास्ता के हर इक गदा का सलाम लो
ए हबीब ! अहमद-ए-मुज्तबा ! दिल-ए-मुब्तला का सलाम लो
जो वफ़ा की राह में खो गया, उसी गुम-शुदा का सलाम लो
नातख्वां:
वासिफ़ रज़ा नूरी

Leave a Reply