Aaj Mehndi Hai Qasim Tumhari Lyrics

Aaj Mehndi Hai Qasim Tumhari Lyrics

 

 

Ro Ke Kheme Me Zainab Pukaari
Ro Ke Kheme Me Zainab Pukaari
Aaj Mehndi Hai Qasim Tumhari
Ro Ke Kheme Me Zainab Pukaari
Aaj Mehndi Hai Qasim Tumhari

Jaon Sau Baar Main Tumpe Waari
Aaj Mehndi Hai Qasim Tumhari
Jaon Sau Baar Main Tumpe Waari
Aaj Mehndi Hai Qasim Tumhari

Lao Jaldi Se Dhoola Banaon
Teri Baraat Ko Main Sajaoon

Ro ke Khaimen mein Zainab pukari
Ro ke Khaimen mein Zainab pukari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari
Ro ke Khaimen mein Zainab pukari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari

Jaon sau baar main tumpe waari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari
Jaon sau baar main tumpe waari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari

Lao jaldi se dhoola banaon
Teri baraat ko main sajaoon
Lao jaldi se dhoola banaon
Teri baraat ko main sajaoon

Ghar mein baithi hai Dulhan bechari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari
Jaon sau baar main tumpe waari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari

Yeh bata wo kahan jaa rahe ho
Kiss liye dil ko tadpa rahe ho
Yeh bata wo kahan jaa rahe ho
Kiss liye dil ko tadpa rahe ho

Rok lo rok lo tum sawaari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari
Jaon sau baar main tumpe waari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari

Rang mehndi ka gahera racha hai
Haath mein dekho kangan bandha hai
Rang mehndi ka gahera racha hai
Haath mein dekho kangan bandha hai

Baat sun lo zara tum hamari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari
Jaon sau baar main tumpe waari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari

Aaj maanjhe baithane ka dil hai
Tumko dhoola banane ka din hai
Aaj maanjhe baithane ka dil hai
Tumko dhoola banane ka din hai

Bibiyaan raah taktin hai saari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari
Jaon sau baar main tumpe waari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari
Bibiyaan yaad kartin hain tumko
Apni soorat to dikhla do humko
Bibiyaan yaad kartin hain tumko
Apni soorat to dikhla do humko

Kah raha hai koi gham ki maari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari
Jaon sau baar main tumpe waari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari

Hoor o balma bhi aaye huey hain
Ba adab sar jhukayen huey hain
Hoor o balma bhi aaye huey hain
Ba adab sar jhukayen huey hain

Kisne gardan tumhari utari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari
Jaon sau baar main tumpe waari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari
Ro ke kahne laga zarra zarra
Aasman se lahu aaj barsa
Koi khaimey Se Bibi pukari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari
Jaon sau baar main tumpe waari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari
Aam daron se aaye khabar hai
Ai Aatiq Nausha Qasim Kidhar hai
Kaifiat kyon na ho dil pe taari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari
Jaon sau baar main tumpe waari
Aaj Mehndi hai Qasim tumhari
Ro Ke Kheme Me Zainab Pukaari
Aaj Mehndi Hai Qasim Tumhari

 

Aaj Mehndi Hai Qasim Tumhari Lyrics

 

रो के खैमे में ज़ैनब पुकारी
रो के खैमे में ज़ैनब पुकारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी
रो के खैमे में ज़ैनब पुकारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी

जाऊँ सौ बार मैं तुमपे वारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी
जाऊँ सौ बार मैं तुमपे वारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी

लाओ जल्दी से धूला बनाऊँ
तेरी बारात को मैं सजाऊँ

रो के खैमे में ज़ैनब पुकारी
रो के खैमे में ज़ैनब पुकारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी
रो के खैमे में ज़ैनब पुकारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी

जाऊँ सौ बार मैं तुमपे वारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी
जाऊँ सौ बार मैं तुमपे वारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी

लाओ जल्दी से धूला बनाऊँ
तेरी बारात को मैं सजाऊँ

घर में बैठी है दुल्हन बेचारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी
जाऊँ सौ बार मैं तुमपे वारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी

ये बता वो कहाँ जा रहे हो
किस लिए दिल को तड़पा रहे हो
ये बता वो कहाँ जा रहे हो
किस लिए दिल को तड़पा रहे हो

रोक लो रोक लो तुम सवारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी
जाऊँ सौ बार मैं तुमपे वारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी

रंग मेहंदी का गहरा रचा है
हाथ में देखो कंगन बाँधा है
रंग मेहंदी का गहरा रचा है
हाथ में देखो कंगन बाँधा है

बात सुन लो ज़रा तुम हमारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी
जाऊँ सौ बार मैं तुमपे वारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी

आज मांझे बैठाने का दिल है
तुमको धूला बनाने का दिन है
आज मांझे बैठाने का दिल है
तुमको धूला बनाने का दिन है

बिबियाँ राह तकतीं हैं सारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी
जाऊँ सौ बार मैं तुमपे वारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी

बिबियाँ याद करतीं हैं तुमको
अपनी सूरत तो दिखला दो हमको
बिबियाँ याद करतीं हैं तुमको
अपनी सूरत तो दिखला द

ो हमको

कह रहा है कोई ग़म की मारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी
जाऊँ सौ बार मैं तुमपे वारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी

हूर ओ बालमा भी आए हुए हैं
बा अदब सर झुकाएं हुए हैं
हूर ओ बालमा भी आए हुए हैं
बा अदब सर झुकाएं हुए हैं

किसने गर्दन तुम्हारी उतारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी
जाऊँ सौ बार मैं तुमपे वारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी

रो के कहने लगा ज़र्रा ज़र्रा
आसमाँ से लहू आज बरसा
कोई ख़ैमें से बिबी पुकारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी
जाऊँ सौ बार मैं तुमपे वारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी

आम दारों से आए ख़बर है
ऐ आतिक़ नौशा क़ासिम किधर है
कैफ़ियत क्यों न हो दिल पे तारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी
जाऊँ सौ बार मैं तुमपे वारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी
रो के खैमे में ज़ैनब पुकारी
आज मेहंदी है क़ासिम तुम्हारी

Leave a Reply