aye khatm e rasool lyrics

aye khatm e rasool lyrics

 

Aye Khatme Rasool Makki Madani || अये खत्मे रसूल मक्की मदनी || Lyrics || Hafiz Uzair Akhtari

Roman (Eng) :
Normal :
Aye Khatme Rusool Makki Madani
Konain mein Tumsa koi nahin
Aye Noore Mujassam Tuj jaisa
Mahboob Khuda ka koi nahin

Ausaaf to sab ne paaye hein
Par husn me.n Tum sa koi nahi.n
Aadam se Janaabe Isa tak
Sarkar ke jaisa koi nahin

Tu hai Khursheede Risaalat Pyare
Chhup gaye hein Teri wila mein Taare
Ambiya aur he.n sab Maah Paare
Tuj se hi Noor liya karte hein

Ausaaf to sab ne paaye hein
Par husn me.n Tum sa koi nahi.n

Wo kanwaari paak Mariyam
Wo Nafakhto Feehi ka dam
Hai Ajab Nishaane Aazam
Magar Aamina ka Jaya
Tu hi Sabse Afzal aaya

Nabi to Saeel sabhi hein Aala
Hein rutbe sabke bulando baala
Magar jo aakhir mein Aamena ka
Wo Laal aaya Kamaal aaya

Ausaf to sab ne paye hein
Par husn mein Tum sa koi nahin
Aadam se Janaabe Isa tak
Sarkar ke jaisa koi nahin

Chashme Rehmat ba-kuda Soo-e-manandaze Nazar
Aye Quraishi Lakabo Hashimio Muttalabbi

Jis Taraf uth gayi dam mein dam aa gaya
Us Nigaahe Inaayat pe Lakhon Salam

Ho Jaaye agar ek Chashme Karam
Mahshar mein Hamaari laaj rahe
Aye Shaaf-e-Mehshar Tere Siwa
Bakhshish ka sila koi nahin

Khairat Muhammad se pa kar
Kis Shaan se kehte hein Mangte
Dukhiyon pe Karam karne wala
Sarkar se acchha koi nahin

Aye Khatme Rusool Makki Madani
Konain mein Tumsa koi nahin
Aye Noore Mujassam Tuj jaisa
Mahboob Khuda ka koi nahin

Special:
aye khatm-e-rusool makki madani
kaunain me.n tumsaa ko.ii nahi.n
aye nuur-e-mujassam tuj jaisa
mahbuub KHudaa ka ko.ii nahi.n

ausaaf to sab ne paaye he.n
par husn me.n tumsaa ko.ii nahi.n
aadam se janaab-e-isaa tak
sarkaar ke jaisaa ko.ii nahi.n

tu hai KHurshiid-e-risaalat pyaare !
chhup gaye he.n teri vila me.n taare
ambiyaa aur he.n sab maah-paare
tuj se hi nuur liyaa karte he.n

ausaaf to sab ne paaye he.n
par husn me.n tumsaa ko.ii nahi.n

vo ku.nvaarii paak mariyam
vo nafa-KH-to fiihii ka dam
hai ajab nishaan-e-aa’zam
magar aamenaa ka jaayaa
tu hi sabse afzal aaya

nabii to saaeel sabhi he. aa’laa
he.n rutbe sab ke buland o baalaa
magar jo aaKHir me.n aamenaa ka
vo laal aayaa kamaal aayaa

ausaaf to sab ne paaye he.n
par husn me.n tumsaa ko.ii nahi.n

chshm-e-rahmat ba-KHudaa suu-e-man-andaaz-e-nazar
aye

अये खत्मे रसूल मक्की मदनी
कौनैन में तुमसा कोई नहीं
अये नूरे मुजस्सम तुज जैसा
महबूब खुदा का कोई नहीं

औसाफ़ तो सब ने पाए हैं
पर हुस्न में तुमसा कोई नहीं
आदम से जनाबे इसा तक
सरकार के जैसा कोई नहीं

तू है ख़ुर्शीदे रिसालत प्यारे
छुप गए हैं तेरी विला में तारे
अम्बिया और हैं सब माह पारे
तुज से ही नूर लिया करते हैं

औसाफ़ तो सब ने पाए हैं
पर हुस्न में तुमसा कोई नहीं

वो कंवारी पाक मरियम
वो नाफखतो फ़ीहि का दम
है अजब निशाने आज़म
मगर आमेना का जाया
तूही सब से अफ़ज़ल आया

नबी तो साईल हैं सब से आला
हैं रुतबे सबके बुलंदो बाला
मगर जो आखिर में आमेना का
वो लाल आया कमाल आया

औसाफ़ तो सब ने पाए हैं
पर हुस्न में तुमसा कोई नहीं
आदम से जनाबे इसा तक
सरकार के जैसा कोई नहीं

चश्मे रहमत बा-कुशा सू-इ-मानंदाज़े नज़र
अये कुरैशी लकबो हशामिओ मुत्तलिबी

जिस तरफ उठ गयी, दम में दम आ गया
उस निगाहे इनायत पे लाखों सलाम

हो जाए अगर एक चश्मे करम
महशर में हमारी लाज रहे
अये शाफ़ा-इ-महेशर तेरे सिवा
बख्शीश का सिला कोई नहीं

खैरात मुहम्मद से पा कर
किस शान से कहते हैं मंगते
दुखियों पे करम करने वाला
सरकार से अच्छा कोई नहीं

अये खत्मे रसूल मक्की मदनी
कौनैन में तुमसा कोई नहीं
अये नूरे मुजस्सम तुज जैसा
महबूब खुदा का कोई नहीं

 

 

AE KHATME RUSUL MAKKI MADNI NAAT LYRICS

 

ए ख़त्म-ए-रुसूल ! मक्की-मदनी ! कौनैन में तुम सा कोई नहीं
ए नूर-ए-मुजस्सम ! तेरे सिवा महबूब ख़ुदा का कोई नहीं

अवसाफ़ तो सब ने पाए हैं, पर हुस्न-ए-सरापा कोई नहीं
आदम से जनाब-ए-ईसा तक सरकार के जैसा कोई नहीं

ये शान तुम्हारी है, आक़ा ! तुम अर्श-ए-बरीं पर पहुँचे हो
ज़ी-शान नबी हैं सब लेकिन मे’राज का दूल्हा कोई नहीं

दिल किस को दिखाएँ चीर के हम, ‘इस्याँ का मदावा कौन करे
ए रहमत-ए-आलम ! तेरे सिवा दुखियों का मसीहा कोई नहीं

ख़ैरात मुहम्मद से पा कर इस नाज़ से कहते हैं मँगते
दुखियों पे करम करने वाला सरकार से अच्छा कोई नहीं

मालिक हैं वो दोनों ‘आलम के, हर ज़र्रा मुनव्वर है उन से
तनवीर-ए-मुजस्सम, सय्यिद-ए-कुल, आक़ा के इलावा कोई नहीं

हो जाए अगर इक चश्म-ए-करम, महशर में फ़ना की लाज रहे
ए शाफ़े’-ए-महशर ! तेरे सिवा बख़्शिश का वसीला कोई नहीं

Leave a Reply