Haidar Maula Ali Ali, Ali Ali Maula Lyrics in Hindi

Haidar Maula Ali Ali, Ali Ali Maula Lyrics in Hindi

 

 

हैदर मौला अली अली, अली अली मौला / Haidar Maula Ali Ali, Ali Ali Maula

शाह-ए-मर्दां, शेर-ए-यज़्दाँ, क़ुव्वत-ए-परवरदिगार
ला-फ़ता इल्ला ‘अली, ला-सैफ़ इल्ला ज़ुल्फ़िक़ार
मैदाँ में आ गए हो तो फिर खुल के बात हो
मैं तो ‘अली के साथ हूँ, तुम किस के साथ हो
हैदर ! हैदर ! हैदर ! हैदर !
हैदर मौला ‘अली ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला !
हैदर मौला ‘अली ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला !
पंज-नारा पंज-तनी, बे-हिसाब नारा-ए-हैदरी
हैदर ! हैदर ! हैदर ! हैदर !
हैदर मौला ‘अली ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला !
हैदर मौला ‘अली ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला !
मेरी जान ‘अली, ईमान ‘अली, पहचान ‘अली, है मेरी शान ‘अली
मेरी जान ‘अली, ईमान ‘अली, पहचान ‘अली, है मेरी शान ‘अली
नाद-ए-‘अली जो आ गया मेरी ज़बान पर
जिब्रील मुस्कुराने लगे आसमान पर
मुनकिर की क्या मजाल मेरे घर में आ सके
नाम-ए-‘अली जो लिखा है मेरे मकान पर
हैदर ! हैदर ! हैदर ! हैदर !
हैदर मौला ‘अली ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला !
हैदर मौला ‘अली ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला !
पंज-नारा पंज-तनी, बे-हिसाब नारा-ए-हैदरी
हैदर ! हैदर ! हैदर ! हैदर !
हैदर मौला ‘अली ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला !
हैदर मौला ‘अली ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला !
उन की कोई मिसाल न कोई जवाब है
मौला-ए-काइनात ‘अली का ख़िताब है
इस वास्ते लक़ब तेरा मौला ‘अली हुआ
जिस पर निग़ाह डाल दी वो भी वली हुआ
हैदर ! हैदर ! हैदर ! हैदर !
हैदर मौला ‘अली ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला !
हैदर मौला ‘अली ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला !
मेरी जान ‘अली, ईमान ‘अली, पहचान ‘अली, है मेरी शान ‘अली
मेरी जान ‘अली, ईमान ‘अली, पहचान ‘अली, है मेरी शान ‘अली
कैसा नसीब देखिए मौला ‘अली का है
आँखें खुली तो सामने चेहरा नबी का है
इक नाम चार-यारों में शेर-ए-ख़ुदा का है
इक नाम पंज-तन में भी मुश्किल-कुशा का है
हैदर ! हैदर ! हैदर ! हैदर !
हैदर मौला ‘अली ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला !
हैदर मौला ‘अली ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला !
पंज-नारा पंज-तनी, बे-हिसाब नारा-ए-हैदरी
हैदर ! हैदर ! हैदर ! हैदर !
हैदर मौला ‘अली ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला !
हैदर मौला ‘अली ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला !
अहल-ए-नज़र की आँख का तारा ‘अली ‘अली
अहल-ए-वफ़ा के दिल का सहारा ‘अली ‘अली
आ’ज़म ! ये मग़्फ़िरत की सनद है हमारे पास
हम हैं ‘अली के और हमारा ‘अली ‘अली
हैदर ! हैदर ! हैदर ! हैदर !
हैदर मौला ‘अली ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला !
हैदर मौला ‘अली ‘अली ! ‘अली ‘अली मौला !
नात-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ ताहिर क़ादरी और हाफ़िज़ अहसन क़ादरी –
हन्ज़ला क़ादरी और हम्ज़ा क़ादरी

shaah-e-mardaa.n, sher-e-yazdaa.n, quwwat-e-parwardigaar
laa-fataa illa ‘ali, laa-saif illa zulfiqaar
maidaa.n me.n aa gae ho to phir khul ke baat ho
mai.n to ‘ali ke saath hu.n, tum kis ke saath ho
haidar ! haidar ! haidar ! haidar !
haidar maula ‘ali ‘ali ! ‘ali ‘ali maula !
haidar maula ‘ali ‘ali ! ‘ali ‘ali maula !
panj-naara panj-tani, be-hisaab naara-e-haidri
haidar ! haidar ! haidar ! haidar !
haidar maula ‘ali ‘ali ! ‘ali ‘ali maula !
haidar maula ‘ali ‘ali ! ‘ali ‘ali maula !
meri jaan ‘ali, imaan ‘ali, pahchaan ‘ali, hai meri shaan ‘ali
meri jaan ‘ali, imaan ‘ali, pahchaan ‘ali, hai meri shaan ‘ali
naad-e-‘ali jo aa gaya meri zabaan par
jibril muskuraane lage aasmaan par
munkir ki kya majaal mere ghar me.n aa sake
naam-e-‘ali jo likha hai mere makaan par
haidar ! haidar ! haidar ! haidar !
haidar maula ‘ali ‘ali ! ‘ali ‘ali maula !
haidar maula ‘ali ‘ali ! ‘ali ‘ali maula !
panj-naara panj-tani, be-hisaab naara-e-haidri
haidar ! haidar ! haidar ! haidar !
haidar maula ‘ali ‘ali ! ‘ali ‘ali maula !
haidar maula ‘ali ‘ali ! ‘ali ‘ali maula !
un ki koi misaal na koi jawaab hai
maula-e-kaainaat ‘ali ka KHitaab hai
is waaste laqab tera maula ‘ali huaa
jis par niGaah Daal di wo bhi wali huaa
haidar ! haidar ! haidar ! haidar !
haidar maula ‘ali ‘ali ! ‘ali ‘ali maula !
haidar maula ‘ali ‘ali ! ‘ali ‘ali maula !
meri jaan ‘ali, imaan ‘ali, pahchaan ‘ali, hai meri shaan ‘ali
meri jaan ‘ali, imaan ‘ali, pahchaan ‘ali, hai meri shaan ‘ali
kaisa naseeb dekhiye maula ‘ali ka hai
aankhe.n khuli to saamne chehra nabi ka hai
ik naam chaar-yaaro.n me.n sher-e-KHuda ka hai
ik naam panj-tan me.n bhi mushkil-kusha ka hai
haidar ! haidar ! haidar ! haidar !
haidar maula ‘ali ‘ali ! ‘ali ‘ali maula !
haidar maula ‘ali ‘ali ! ‘ali ‘ali maula !
panj-naara panj-tani, be-hisaab naara-e-haidri
haidar ! haidar ! haidar ! haidar !
haidar maula ‘ali ‘ali ! ‘ali ‘ali maula !
haidar maula ‘ali ‘ali ! ‘ali ‘ali maula !
ahl-e-nazar ki aankh ka taara ‘ali ‘ali
ahl-e-wafa ke dil ka sahaara ‘ali ‘ali
Aa’zam ! ye maGfirat ki sanad hai hamaare paas
ham hai.n ‘ali ke aur hamaara ‘ali ‘ali
haidar ! haidar ! haidar ! haidar !
haidar maula ‘ali ‘ali ! ‘ali ‘ali maula !
haidar maula ‘ali ‘ali ! ‘ali ‘ali maula !
Naat-Khwaan:
Hafiz Tahir Qadri and Hafiz Ahsan Qadri –
Hanzala Qadri and Hamza Qadri

 

 

Leave a Reply