Kaabe Pe Padi Jab Pahli Nazar Lyrics

Kaabe Pe Padi Jab Pahli Nazar Lyrics

 

 

KABE PE PARI JAB PEHLI NAZAR NAAT LYRICS

Kaa’be Pei Pari Jab Pehli Nazar Kya Cheez Hai Duniya Bhul Gayi
Youn Hosh-O-Khard Maflooj Hote Dil Zook-E-Tamasha Bhul Gayi

Ahsaas Ke Parde Lehraye Imaan Ki Haraarat Teezi Hoyi
Sajdoun Ki Tarap Allah Allah Sar Apna Sooda Bhul Geya

Poncha Jo Haram Ki Chookhat Tak Aik Ibre Karam Ne Gheer Liya
Baqi Na Raha Phir Hosh Mujhe Kya Mangha Aur Kya Kya Bhul Geya

Jis Waqt Dua’a Ko Haat Uthe Yaad Na Saka Jo Socha Tha
Izhaar-E-Aaqeedat Ki Dahan Mei Izhaar-E-Tamana Bhul Geya

Har Waqt Barasti Hai Hai Rehmat Kaa’be Mein Jameel Alllah Allah
Khaki Houn Main Kitna Bhul Geya Aati Houn Main Kitna Bhul Geya

 

 

का’बे पे पड़ी जब पहली नज़र, क्या चीज़ है दुनिया भूल गया
यूँ होश-ओ-ख़िरद मफ़लूज हुए, दिल ज़ौक़-ए-तमाशा भूल गयाफिर रूह को इज़्न-ए-रक़्स मिला, ख़्वाबीदा-जुनूँ बेदार हुआ
तलवों का तक़ाज़ा याद रहा, नज़रों का तक़ाज़ा भूल गया

एहसास के पर्दे लहराए, ईमाँ की हरारत तेज़ हुई
सज्दों की तड़प, अल्लाह-अल्लाह ! सर अपना सौदा भूल गया

जिस वक़्त दु’आ को हाथ उठे, याद आ न सका जो सोचा था
इज़्हार-ए-‘अक़ीदत की धुन में, इज़्हार-ए-तमन्ना भूल गया

पहुँचा जो हरम की चौखट तक, इक अब्र-ए-करम ने घेर लिया
बाक़ी न रहा ये होश मुझे, क्या माँग लिया, क्या भूल गया

हर वक़्त बरस्ती है रहमत का’बे में, जमील ! अल्लाह-अल्लाह
ख़ाती हूँ मैं कितना भूल गया, ‘आसी हूँ मैं कितना भूल गया

शायर:
जमील नक़वी

ना’त-ख़्वाँ:
उम्म-ए-हबीबा
मुहम्मद अश्फ़ाक़ अत्तारी


का’बे पे पड़ी जब पहली नज़र, क्या चीज़ है दुनिया भूल गया
यूँ होश-ओ-ख़िरद मफ़लूज हुए, दिल ज़ौक़-ए-तमाशा भूल गया

का’बे पे पड़ी जब पहली नज़र, क्या चीज़ है दुनिया भूल गया

का’बे की रौनक़ का’बे का मंज़र, अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर
देखूँ तो देखे जाऊँ बराबर, अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर

फिर रूह को इज़्न-ए-रक़्स मिला, ख़्वाबीदा-जुनूँ बेदार हुआ
तलवों का तक़ाज़ा याद रहा, नज़रों का तक़ाज़ा भूल गया

का’बे पे पड़ी जब पहली नज़र, क्या चीज़ है दुनिया भूल गया

तेरे हरम की क्या बात, मौला ! तेरे करम की क्या बात, मौला !
ता-‘उम्र कर दे आना मुक़द्दर, अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर

एहसास के पर्दे लहराए, ईमाँ की हरारत तेज़ हुई
सज्दों की तड़प, अल्लाह-अल्लाह ! सर अपना सौदा भूल गया

का’बे पे पड़ी जब पहली नज़र, क्या चीज़ है दुनिया भूल गया

हम्द-ए-ख़ुदा से तर हैं ज़बानें, कानों में रस घोलती हैं अज़ानें
बस इक सदा आती है बराबर, अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर

जिस वक़्त दु’आ को हाथ उठे, याद आ न सका जो सोचा था
इज़्हार-ए-‘अक़ीदत की धुन में, इज़्हार-ए-तमन्ना भूल गया

का’बे पे पड़ी जब पहली नज़र, क्या चीज़ है दुनिया भूल गया

माँगी है मैं ने जितनी दु’आएँ, मंज़ूर होंगी, मक़बूल होंगी
मीज़ाब-ए-रहमत है मेरे सर पर, अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर

पहुँचा जो हरम की चौखट पर, इक अब्र-ए-करम ने घेर लिया
बाक़ी न रहा ये होश मुझे, क्या माँग लिया, क्या भूल गया

का’बे पे पड़ी जब पहली नज़र, क्या चीज़ है दुनिया भूल गया

भेजा है जन्नत से तुझ को रब ने, चूमा है तुझ को ख़ुद मुस्तफ़ा ने
ऐ संग-ए-अस्वद ! तेरा मुक़द्दर, अल्लाहु अकबर, अल्लाहु अकबर

हर वक़्त बरस्ती है रहमत का’बे में, जमील ! अल्लाह-अल्लाह
ख़ाकी हूँ मैं कितना भूल गया, ‘आसी हूँ मैं कितना भूल गया

शायर:
जमील नक़वी

ना’त-ख़्वाँ:
हाफ़िज़ अबू बक्र


 

kaa’be pe pa.Di jab pehli nazar
kya cheez hai duniya bhool gaya
yu.n hosh-o-KHirad maflooj hue
dil zauq-e-tamaasha bhool gayaphir rooh ko izn-e-raqs mila
KHwaabida-junoo.n bedaar huaa
talwo.n ka taqaaza yaad raha
nazro.n ka takaaza bhool gaya

ehsaas ke parde lehraae
imaa.n ki haraarat tez hui
sajdo.n ki ta.Dap, allah-allah !
sar apna sauda bhool gaya

jis waqt du’aa ko haath uThe
yaad aa na saka jo socha tha
iz.haar-e-‘aqeedat ki dhun me.n
iz.haar-e-tamanna bhool gaya

pahuncha jo haram ki chaukhaT tak
ik abr-e-karam ne gher liya
baaqi na raha ye hosh mujhe
kya maang liya, kya bhool gaya

har waqt barasti hai rehmat
kaa’be me.n, Jameel ! allah-allah
KHaati hu.n mai.n kitna bhool gaya
‘aasi hu.n mai.n kitna bhool gaya

Poet:
Jameel Naqvi

Naat-Khwaan:
Umm E Habiba
Muhammad Ashfaq Attari


kaa’be pe pa.Di jab pehli nazar
kya cheez hai duniya bhool gaya
yu.n hosh-o-KHirad maflooj hue
dil zauq-e-tamaasha bhool gaya

kaa’be pe pa.Di jab pehli nazar
kya cheez hai duniya bhool gaya

kaa’be ki raunaq kaa’be ka manzar
allahu akbar, allahu akbar
dekhu.n to dekhe jaau.n baraabar
allahu akbar, allahu akbar

phir rooh ko izn-e-raqs mila
KHwaabida-junoo.n bedaar huaa
talwo.n ka taqaaza yaad raha
nazro.n ka takaaza bhool gaya

kaa’be pe pa.Di jab pehli nazar
kya cheez hai duniya bhool gaya

tere haram ki kya baat, maula !
tere karam ki kya baat, maula !
taa-‘umr kar de aana muqaddar
allahu akbar, allahu akbar

ehsaas ke parde lehraae
imaa.n ki haraarat tez hui
sajdo.n ki ta.Dap, allah-allah !
sar apna sauda bhool gaya

kaa’be pe pa.Di jab pehli nazar
kya cheez hai duniya bhool gaya

hamd-e-KHuda se tar hai.n zabaane.n
kaano.n me.n ras gholti hai.n azaane.n
bas ik sada aati hai baraabar
allahu akbar, allahu akbar

jis waqt du’aa ko haath uThe
yaad aa na saka jo socha tha
iz.haar-e-‘aqeedat ki dhun me.n
iz.haar-e-tamanna bhool gaya

kaa’be pe pa.Di jab pehli nazar
kya cheez hai duniya bhool gaya

maangi hai mai.n ne jitni du’aae.n
manzoor hongi, maqbool hongi
meezaab-e-rehmat hai mere sar par
allahu akbar, allahu akbar

pahuncha jo haram ki chaukhaT tak
ik abr-e-karam ne gher liya
baaqi na raha ye hosh mujhe
kya maang liya, kya bhool gaya

kaa’be pe pa.Di jab pehli nazar
kya cheez hai duniya bhool gaya

bheja hai jannat se tujh ko rab ne
chooma hai tujh ko KHud mustafa ne
ai sang-e-aswad ! tera muqaddar
allahu akbar, allahu akbar

har waqt barasti hai rehmat
kaa’be me.n, Jameel ! allah-allah
KHaati hu.n mai.n kitna bhool gaya
‘aasi hu.n mai.n kitna bhool gaya

Poet:
Jameel Naqvi

Naat-Khwaan:
Hafiz Abu Bakar

Leave a Reply