Main Kis Muh Se Bolun Huzoor Aapka Hun Lyrics | हुज़ूर ! आपके दर का में अदना गदा हूँ

Main Kis Muh Se Bolun Huzoor Aapka Hun Lyrics

 

Huzoor ! Aap Ke Dar Ka Mai.N Adna Gada Hu.N
Mere Dam Me.N Aaqa ! Ye Dam Aapka Hai
Huzoor ! Aap Ke Tukdo.N Par Jee Raha Hu.N
Mai.N Kuchh Bhi Nahi.N Hu.N , Karam Aap Ka Hai

Ye Quraan Rabb Ne Jo Naazil Kiya Hai
Huzoor Aap Ka Hi Qaseeda Likha Hai
Khuda Keh Raha Hai Habeeb-E-Khuda Se
Ye Loh Bhi Tumhari , Qalam Aap Ka Hai

Huzoor Aap Ke Tukdo.N Par Jee Raha Hu.N
Mai.N Kuchh Bhi Nahi.N Hu.N , Karam Aap Ka Hai

Use Gardishe.N Ab Mitaaengi Kaise
Hawaae.N Use Ab Bujaaengi Kaise
Diyaa Ban Ke Jaltaa Hai Seene Me.N Har Dam
Mere Mustafa Ye Jo Gham Aap Ka Hai

Huzoor Aap Ke Tukdo.N Par Jee Raha Hu.N
Mai.N Kuchh Bhi Nahi.N Hu.N , Karam Aap Ka Hai

Falak Kyu.N Hai Roshan , Zaraa Ye To Socho
Zamee.N Kyu.N Hai Roshan , Zaraa Ye To Samjo
Wahaa.N Par Bhi Aaqa ! Qadam Aap Ka Hai
Yahaa.N Par Bhi Aaqa ! Qadam Aap Ka Hai

Huzoor Aap Ke Tukdo.N Par Jee Raha Hu.N
Mai.N Kuchh Bhi Nahi.N Hu.N , Karam Aap Ka Hai

Zubaa.N Pe Ye Jis Ke , Ye Har Dam Sadaa Ho
Madad Al-Madad , Aye Rasool-E-Khuda Ho
Wohi Jaa Raha Hai , Khuld-E-Bari Ko
Ke Thaama Hua Jis Ne ‘Alam Aapka Hai

Huzoor Aap Ke Tukdo.N Par Jee Raha Hu.N
Mai.N Kuchh Bhi Nahi.N Hu.N , Karam Aap Ka Hai

Mai.N Sab Se Bura Hu.N , Mai.N Ye Maantaa Hu.N
Huzoor Aapka Hu.N Yahi Jaantaa Hu.N
Bada Naaz Hai Mujhko , Mere Mustafa Par
Ataa Jo Kiya Hai , Bharam Aapka Hai

Huzoor Aap Ke Tukdo.N Par Jee Raha Hu.N
Mai.N Kuchh Bhi Nahi.N Hu.N , Karam Aap Ka Hai

Jahaa.N Par Farishte Salaami Ko Aaye.N
Jahaa.N Par Hai Insaan , Me’raaj Paaye.N
Chhamaa-Chham Jahaa.N Barse Noor Khuda Ka
Mere Mustafa ! Wo Haram Aap Ka Hai

Huzoor Aap Ke Tukdo.N Par Jee Raha Hu.N
Mai.N Kuchh Bhi Nahi.N Hu.N , Karam Aap Ka Hai

Yahi Kab Se Ahmad ! Meri Justaju Hai
Yahi To Sadaa Se Meri Aarzu Hai
Meri Rooh Nikle Usi Raaste Par
Jahaa.N Par Bhi Naksh-E-Qadam Aapka Hai

Huzoor Aap Ke Tukdo.N Par Jee Raha Hu.N
Mai.N Kuchh Bhi Nahi.N Hu.N , Karam Aap Ka Hai

 

हुज़ूर ! आपके दर का में अदना गदा हूँ

 

हुज़ूर ! आपके दर का में अदना गदा हूँ
मेरे दम में आक़ा ! ये दम आपका है
हुज़ूर ! आपके टुकड़ों पर जी रहा हूँ
में कुछ भी नहीं हूँ करम आपका है

ये क़ुरआन रब ने जो नाज़िल किया है
हुज़ूर आपका ही क़सीदा लिखा है
खुदा कह रहा है हबीब-ए-खुदा से
ये लोह भी तुम्हारी , क़लम आपका है

हुज़ूर ! आपके टुकड़ों पर जी रहा हूँ
में कुछ भी नहीं हूँ करम आपका है

उसे गर्दिशें अब मिटाएंगी कैसे
हवाएं उसे अब बुजाएँगी कैसे
दिया बन के जलता है सीने में हर दम
मेरे मुस्तफा ! ये जो गम आपका है

हुज़ूर ! आपके टुकड़ों पर जी रहा हूँ
में कुछ भी नहीं हूँ करम आपका है

फलक क्यों है रोशन ज़रा ये तो सोचो
ज़मीं क्यों है रोशन ज़रा ये तो समजो
वहां पर भी आक़ा ! क़दम आपके है
यहाँ पर भी आक़ा ! क़दम आपका है

हुज़ूर ! आपके टुकड़ों पर जी रहा हूँ
में कुछ भी नहीं हूँ करम आपका है

जुबां पे ये जिसके ये हर दम सदा हो
मदद ! अल-मदद ! अये रसूले खुदा हो
वही जा रहा है खुल्द-ए-बरी को
के थामा हुआ जिसने अलम आपका है

हुज़ूर ! आपके टुकड़ों पर जी रहा हूँ
में कुछ भी नहीं हूँ करम आपका है

में सबसे बुरा हूँ में ये मानता हूँ
हुज़ूर आपका हूँ यही जानता हूँ
बड़ा नाज़ है मुझको मेरे मुस्तफा पर
अता जो किया है भरम आपका है

हुज़ूर ! आपके टुकड़ों पर जी रहा हूँ
में कुछ भी नहीं हूँ करम आपका है

जहाँ पर फ़रिश्ते सलामी को आएं
जहाँ पर हैं इंसान मे’राज पाएं
छमा-छम जहाँ बरसे नूर खुदा का
मेरे मुस्तफा ! वो हरम आपका है

हुज़ूर ! आपके टुकड़ों पर जी रहा हूँ
में कुछ भी नहीं हूँ करम आपका है

यही कब से अहमद ! मेरी जुस्तजू है
यही तो सदा से मेरी आरज़ू है
मेरी रूह निकले उसी रास्ते पर
जहाँ पर भी नक़्श-ए-क़दम आपका है

हुज़ूर ! आपके टुकड़ों पर जी रहा हूँ
में कुछ भी नहीं हूँ करम आपका है

हुज़ूर ! आप का हूँ, मगर सोचता हूँ
मैं किस मुँह से बोलूँ, हुज़ूर ! आप का हूँ
गुनाहों के दरिया में डूबा हुआ हूँ
मैं किस मुँह से बोलूँ, हुज़ूर ! आप का हूँ

किया रब ने पैदा ‘इबादत की ख़ातिर
मोहब्बत ‘अता की इता’अत की ख़ातिर
ज़माने के चक्कर में फिर भी फँसा हूँ
मैं किस मुँह से बोलूँ, हुज़ूर ! आप का हूँ

बहुत चाहता हूँ, मदीने में आऊँ
वहाँ आ के पलकों से झाड़ू लगाऊँ
मगर कैसे आऊँ, बहुत ही बुरा हूँ
मैं किस मुँह से बोलूँ, हुज़ूर ! आप का हूँ

मेरे वास्ते आप रातों को रोए
कभी चैन से एक पल भी न सोए
यहाँ चैन से रोज़ मैं सो रहा हूँ
मैं किस मुँह से बोलूँ, हुज़ूर ! आप का हूँ

हराम और हलाल आप ने सब बताया
हर इक राज़-ए-हस्ती से पर्दा उठाया
मैं सब जान कर भी बुरा बन गया हूँ
मैं किस मुँह से बोलूँ, हुज़ूर ! आप का हूँ

हसद, झूट, ग़ीबत समाई है मुझ में
ज़माने की सारी बुराई है मुझ में
बहुत तौबा करता हूँ, फिर तोड़ता हूँ
मैं किस मुँह से बोलूँ, हुज़ूर ! आप का हूँ

हुज़ूर ! अपने मद्दाह की लाज रखिए
है जावेद मेरा, ख़ुदा से ये कहिए
गुनहगार हूँ, मुँह छुपाए खड़ा हूँ
मैं किस मुँह से बोलूँ, हुज़ूर ! आप का हूँ

ना’त-ख़्वाँ:
मुहम्मद अली फ़ैज़ी

حضُور ! آپ کے در کا میں عدنا گدا ہوں

 

حضُور ! آپ کے در کا میں عدنا گدا ہوں
میرے دم میں آقا ! یہ دم آپکا ہے
حضُور! آپکے ٹکڑوں پر جی رہا ہوں
میں کچھ بھی نہیں ہوں ، کرم آپکا ہے

یہ قران رب نے جو نازل کیا ہے
حضُور ! آپکا ہی قصیدہ لکھا ہے
خدا کہ رہا ہے ، حببب خدا سے
یہ لَوْح بھی تمہاری قلم آپکا ہے

حضُور! آپکے ٹکڑوں پر جی رہا ہوں
میں کچھ بھی نہیں ہوں ، کرم آپکا ہے

اسے گردشیں اب مٹاینگی کیسے
ہوائیں اسے اب بجاےنگی کیسے
دیا بن کے جلتا ہے سینے میں ہر دم
میرے مصطفیٰ ! یہ جو غم آپکا ہے

حضُور! آپکے ٹکڑوں پر جی رہا ہوں
میں کچھ بھی نہیں ہوں ، کرم آپکا ہے

فلک کیوں ہے روشن ، ذرا یہ تو سوچو
زمیں کیوں ہے روشن ، ذرا یہ تو سمجو
وہاں پر بھی آقا ! قدم آپکا ہے
یہاں پر بھی آقا ! قدم آپکا ہے

حضُور! آپکے ٹکڑوں پر جی رہا ہوں
میں کچھ بھی نہیں ہوں ، کرم آپکا ہے

زباں پر یہ جسکے ، یہ ہر دم صدا ہو
مدد المدد یا رسول خدا ہو
وہی جا رہا ہے خلد بری کو
کے تھاما ہوا جسنے علم آپکا ہے

حضُور! آپکے ٹکڑوں پر جی رہا ہوں
میں کچھ بھی نہیں ہوں ، کرم آپکا ہے

میں سب سے برا ہوں ، میں یہ مانتا ہوں
حضُور ! آپکا ہوں ، یہی جانتا ہوں
بڑا ناز ہے مجکو ، میرے مصطفیٰ پر
عطا جو کیا ہے ، بھرم آپکا ہے

حضُور! آپکے ٹکڑوں پر جی رہا ہوں
میں کچھ بھی نہیں ہوں ، کرم آپکا ہے

جہاں پر فرشتے ، سلامی کو آئیں
جہاں پر ہیں انسان ، معراج پائیں
چھما-چھم جہاں برسے نور خدا کا
میرے مصطفیٰ ! وہ حرم آپکا ہے

حضُور! آپکے ٹکڑوں پر جی رہا ہوں
میں کچھ بھی نہیں ہوں ، کرم آپکا ہے

یہی کب سے احمد ! میری جستجو ہے
یہی تو سدا سے میری آرزو ہے
میری روح نکلے اسی راستے پر
جہاں پر بھی نکش قدم آپکا ہے

حضُور! آپکے ٹکڑوں پر جی رہا ہوں
میں کچھ بھی نہیں ہوں ، کرم آپکا ہے

 

 

 

हुज़ूर आपका हूं मगर सोचता हूं

मैं किस मुंह से बोलूं हुज़ूर आपका हूं

गुनाहों के दरिया में डूबा हुआ हूं

मैं किस मुंह से बोलूं हुज़ूर आपका हूं

Huzoor aapka hun magar sochta hun

Main kis muh se bolun huzoor aapka hun

Gunahon ke dariya me dooba hua hun

Main kis muh se bolun huzoor aapka hun

 

किया रब ने पैदा इबादत की ख़ातिर

मोहब्बत अत़ा की इताअ़त की ख़ातिर

ज़माने के चक्कर में फिर भी फंसा हूं

मैं किस मुंह से बोलूं हुज़ूर आपका हूं

Kya rab ne paida ibadat ki khatir

Mohabbat ata ki itaa’at ki khatir

Zamane ke chakkar me phir bhi fasa hun

Main kis muh se bolun huzoor aapka hun

 

बहुत चाहता हूं मदीने में आऊं

वहां आके पलकों से झाड़ू लगाऊं

मगर कैसे आऊं बहुत ही बुरा हूं

मैं किस मुंह से बोलूं हुज़ूर आपका हूं

Bahut chahta hun madine me aaun

Waha aa ke palkon se jhaadu lagaun

Magar kaise aaun bahut hi bura hun

Main kis muh se bolun huzoor aapka hun

 

मेरे वास्ते आप रातों को रोए

कभी चैन से एक पल भी ना सोए

यहां चैन से रोज़ मैं सो रहा हूं

मैं किस मुंह से बोलूं हुज़ूर आपका हूं

Mere waste aap raaton ko rooye

Kabhi chain se ek pal bhi na soye

Yahan chain se roz main so raha hun

Main kis muh se bolun huzoor aapka hun

 

हराम और हलाल आपने सब बताया

हर इक राज़-ए-हस्ती से पर्दा उठाया

मैं सब जानकर भी बुरा बन गया हूं

मैं किस मुंह से बोलूं हुज़ूर आपका हूं

Haraam aur halaal aapne sab bataya

Har ik raaz-e-hasti se parda uthaya

Main sab jaankar bhi bura ban gaya hun

Main kis muh se bolun huzoor aapka hun

 

हसद, झूठ, ग़ीबत समाई है मुझ में

ज़माने की सारी बुराई है मुझ में

बहुत तौबा करता हूं फिर तोड़ता हूं

मैं किस मुंह से बोलूं हुज़ूर आपका हूं

Hasad, jhoot, gheebat samaayi hai mujh me

Zamane ki saari buraayi hai mujh me

Bahut tauba karta hun phir todta hun

Main kis muh se bolun huzoor aapka hun

 

हुजूर अपने मद्दाह की लाज रखिये

है जावेद मेरा ख़ुदा से ये कहिए

गुनहगार हूं मुंह छिपाये खड़ा हूं

मैं किस मुंह से बोलूं हुज़ूर आपका हूं

Huzoor apne maddah ki laaj rakhiye

Hai javed mera khuda se ye kahiye

Gunahgar hun muh chhupaye khada hun

Main kis muh se bolun huzoor aapka hun

 

Ali Ali Mola Haider Haider Lyrics

Marhaba Sayyadi Makki-Madani ul Arabi Lyrics

Ishq Aisa Malaal Deta Hai Naat Lyrics

ye kehti thi ghar ghar me ja kar haleema naat lyrics

Usdul Ghabah Fi Marifat-us-Sahabah By Ibn Aseer Book Free download PDF

Aansu Meri Aankhon Mein Nahi Aaye Hue Hain Lyrics in Hindi

Hasbi Rabbi Jallallah Lyrics Hindi

Tafseer Ibne Kaseer (complete 5 volumes) Urdu free download pdf

Banda am wal amru amruk Sanche daani urdu lyrics

HUZOOR AISA KOI INTEZAM HO JAYE LYRICS

dil hai sanam khaana mera jab se basi soorat teri lyrics

Leave a Reply