Rahmat Laqab Hai Aur Jo Bekas Nawaaz Hai Naat e Paak Lyrics

Rahmat Laqab Hai Aur Jo Bekas Nawaaz Hai Naat e Paak Lyrics

 

wo nabiyo.n me.n rehmat laqab paane waala
usi se hai islam ka bol-baala

wo sar-chashma-e-noor-e-fat.h-e-mubee.n hai
wohi mash’al-e-raah-e-‘azm-o-yaqee.n hai
usi se hamaare dilo.n me.n ujaala
usi se hai islam ka bol-baala

wo nabiyo.n me.n rehmat laqab paane waala
usi se hai islam ka bol-baala

usi ke ye ham par hai.n ehsaan saare
qadam manzile.n choomti hai.n hamaare
usi ne andhero.n se ham ko nikaala
usi se hai islam ka bol-baala

wo nabiyo.n me.n rehmat laqab paane waala
usi se hai islam ka bol-baala

sahaara diya us ke naqsh-e-qadam ne
usi ki tawajjoh, usi ke karam ne
zamaane ke girte huo.n ko sambhaala
usi se hai islam ka bol-baala

wo nabiyo.n me.n rehmat laqab paane waala
usi se hai islam ka bol-baala

usi ki mohabbat hai imaan-e-kaamil
usi se mila ham ko ‘irfaan-e-manzil
usi ne hame.n jaada-e-haq pe Daala
usi se hai islaam ka bol-baala

wo nabiyo.n me.n rehmat laqab paane waala
usi se hai islam ka bol-baala

Naat-Khwaan:
Qari Waheed Zafar Qasmi
Mudassir Abdullah

wo nabiyo.n me.n rehmat laqab paane waala
muraade.n Gareebo.n ki bar laane waala

museebat me.n Gairo.n ke kaam aane waala
wo apne paraae ka Gam khaane waala

faqeero.n ka malja, za’eefo.n ka maawa
yateemo.n ka waali, Gulaamo.n ka maula

KHata-kaar se darguzar karne waala
bad-andesh ke dil me.n ghar karne waala

mafaasid ko zer-o-zabar karne waala
qabaail ko sheer-o-shakar karne waala

utar kar hira se soo-e-qaum aaya
aur ik nusKHa-e-keemiya saath laaya

mas-e-KHaam ko jis ne qundan banaaya
khara aur khoTa alag kar dikhaaya

‘arab jis pe qarno.n se tha jahl chhaaya
palaT di bas ik aan me.n us ki kaaya

raha Dar na be.De ko mauj-e-bala ka
idhar se udhar phir gaya ruKH hawa ka

wo faKHr-e-‘arab, zeb-e-mehraab-o-mimbar
tamaam ahl-e-makka ko hamraah le kar

gaya ek din hasb-e-farmaan-e-daawar
soo-e-dasht aur cha.Dh ke koh-e-safa par

ye farmaaya sab se ki, ai aal-e-Gaalib !
samajhte ho tum mujh ko saadiq ki kaazib ?

kaha sab ne, qaul aaj tak koi tera
kabhi ham ne jhooTa suna aur na dekha

kaha, gar samajhte ho tum mujh ko aisa
to baawar karoge agar mai.n kahunga ?

ki fauj-e-giraa.n pusht-e-koh-e-safa par
pa.Di hai ki looTe tumhe.n ghaat paa kar

kaha, teri har baat ka yu.n yaqee.n hai
ki bachpan se saadiq hai tu aur amee.n hai

kaha, gar meri baat ye dil-nashee.n hai
to sun lo KHilaaf is me.n islah nahi.n hai

ki sab qaafila yaa.n se hai jaane waala
Daro us se jo waqt hai aane waala

balaGal-‘ula bi-kamaalihi
kashafa-dduja bi-jamaalihi
hasunat jamee’u KHisaalihi
sallu ‘alaihi wa aalihi

wo bijli ka ka.Dka tha ya saut-e-haadi
‘arab ki zamee.n jis ne saari hila di

nai ik lagan dil me.n sab ke laga di
ik aawaaz me.n soti basti jaga di

pa.Da har taraf Gul ye paiGaam-e-haq se
ki goonj uThe dasht-o-jabal naam-e-haq se

Poet:
Altaf Hussain Hali

Naat-Khwaan:
Junaid Jamshed
Zufaif Nadwi
Danish and Dawar

 

वो नबियों में रहमत लक़ब पाने वाला
उसी से है इस्लाम का बोल-बाला

वो सर-चश्मा-ए-नूर-ए-फ़त्ह-ए-मुबीं है
वोही मश’अल-ए-राह-ए-‘अज़्म-ओ-यक़ीं है
उसी से हमारे दिलों में उजाला
उसी से है इस्लाम का बोल-बाला

वो नबियों में रहमत लक़ब पाने वाला
उसी से है इस्लाम का बोल-बाला

उसी के ये हम पर हैं एहसान सारे
क़दम मंज़िलें चूमती हैं हमारे
उसी ने अँधेरों से हम को निकाला
उसी से है इस्लाम का बोल-बाला

वो नबियों में रहमत लक़ब पाने वाला
उसी से है इस्लाम का बोल-बाला

सहारा दिया उस के नक़्श-ए-क़दम ने
उसी की तवज्जोह, उसी के करम ने
ज़माने के गिरते हुओं को सँभाला
उसी से है इस्लाम का बोल-बाला

वो नबियों में रहमत लक़ब पाने वाला
उसी से है इस्लाम का बोल-बाला

उसी की मोहब्बत है ईमान-ए-कामिल
उसी से मिला हम को ‘इरफ़ान-ए-मंज़िल
उसी ने हमें जादा-ए-हक़ पे डाला
उसी से है इस्लाम का बोल-बाला

वो नबियों में रहमत लक़ब पाने वाला
उसी से है इस्लाम का बोल-बाला

ना’त-ख़्वाँ:
क़ारी वहीद ज़फ़र क़ासमी
मुदस्सिर अब्दुल्लाह

 

वो नबियों में रहमत लक़ब पाने वाला
मुरादें ग़रीबों की बर लाने वाला

मुसीबत में ग़ैरों के काम आने वाला
वो अपने पराए का ग़म खाने वाला

फ़क़ीरों का मलजा, ज़’ईफ़ों का मावा
यतीमों का वाली, ग़ुलामों का मौला

ख़ता-कार से दरगुज़र करने वाला
बद-अंदेश के दिल में घर करने वाला

मफ़ासिद को ज़ेर-ओ-ज़बर करने वाला
क़बाइल को शीर-ओ-शकर करने वाला

उतर कर हिरा से सू-ए-क़ौम आया
और इक नुस्ख़ा-ए-कीमिया साथ लाया

मस-ए-ख़ाम को जिस ने कुंदन बनाया
खरा और खोटा अलग कर दिखाया

‘अरब जिस पे क़रनों से था जहल छाया
पलट दी बस इक आन में उस की काया

रहा डर न बेड़े को मौज-ए-बला का
इधर से उधर फिर गया रुख़ हवा का

वो फ़ख़्र-ए-‘अरब, ज़ेब-ए-मेहराब-ओ-मिम्बर
तमाम अहल-ए-मक्का को हमराह ले कर

गया एक दिन हस्ब-ए-फ़रमान-ए-दावर
सू-ए-दश्त और चढ़ के कोह-ए-सफ़ा पर

ये फ़रमाया सब से कि, ऐ आल-ए-ग़ालिब !
समझते हो तुम मुझ को सादिक़ कि काज़िब ?

कहा सब ने, क़ौल आज तक कोई तेरा
कभी हम ने झूटा सुना और न देखा

कहा, गर समझते हो तुम मुझ को ऐसा
तो बावर करोगे अगर मैं कहूँगा ?

कि फ़ौज-ए-गिराँ पुश्त-ए-कोह-ए-सफ़ा पर
पड़ी है कि लूटे तुम्हें घात पा कर

कहा, तेरी हर बात का यूँ यक़ीं है
कि बचपन से सादिक़ है तू और अमीं है

कहा, गर मेरी बात ये दिल-नशीं है
तो सुन लो ख़िलाफ़ इस में इस्लाह नहीं है

कि सब क़ाफ़िला याँ से है जाने वाला
डरो उस से जो वक़्त है आने वाला

बलग़ल-‘उला बि-कमालिही
कशफ़-द्दुजा बि-जमालिही
हसुनत जमी’उ ख़िसालिही
सल्लू ‘अलैहि व आलिही

वो बिजली का कड़का था या सौत-ए-हादी
‘अरब की ज़मीं जिस ने सारी हिला दी

नई इक लगन दिल में सब के लगा दी
इक आवाज़ में सोती बस्ती जगा दी

पड़ा हर तरफ़ ग़ुल ये पैग़ाम-ए-हक़ से
कि गूँज उठे दश्त-ओ-जबल नाम-ए-हक़ से

शायर:
अल्ताफ़ हुसैन हाली

ना’त-ख़्वाँ:
जुनैद जमशेद
ज़ुफ़ैफ़ नदवी
दानिश और दावर

Shayar: Janab Khalid Mahmud ‘Khalid’

 

اردو لرکس کے لئے یہاں ٹچ کریں

Qatah | क़तः

Faiz Sarkar ﷺKa Nirala Hai
Naam Bhi Unka LaajWala Hai
Unke Hi Dam-Qadam Ki Barkat Se
Bazm e Kaunain Meiñ Ujala Hai

फ़ैज़ सरकार का निराला है
नाम भी उनका लाजवाला है
उनके है दम क़दम की बरकत से
बज़्म ए कौनैन में उजाला है।

 

Naat e Paak | नात ए पाक

Rahmat Laqab Hai Aur Jo Bekas Nawaaz Hai
Mujh Ko To Bas Usi Ki Ghulami Pe Naaz Hai
रहमत लक़ब है और जो बेकस नवाज़ है,
मुझको तो बस उसी की ग़ुलामी पे नाज़ है

 

Mei’yaar e Bandagi Hai Unhi Ki Har Ik Ada
Ishq e Rasool e Paak Hi Rooh e Namaz Hai
मेयार ए बंदगी है उन्हीं की हर इक अदा
इश्क़ ए रसूल ए पाक ही रूहे नमाज़ है

 

Az Farsh Taa Ba-Arsh Hai Me’raaj Hi Ki Dhoom
Kya RooBaRü e Aayina, Aayina Saaz Hai
अज़ फर्श ता ब-अर्श है मेराज ही की धूम
क्या रूबरू ए आइना, आईना-साज है।

 

Mera Mushaahida Bhi Hai Aur Tajurba Bhi Hai
Jo Aapka Ghulaam Hai, Woh Sarfaraz Hai
मेरा मुशाहिदा भी है और तजुर्बा भी है
जो आपका गुलाम है, वोह सरफराज है।

 

Haalaat Khwaah Kuchh Bhi Hoñ, Lekin Hooñ Mut’mayin
Hai Laaj Jis Ke Haath Woh Banda-Nawaz Hai
हालात ख्वाह कुछ भी हों लेकिन हूं मुत्मइन
है लाज जिसके हाथ वोह बंदा-नवाज़ है।

 

Koi Bhi Mera Ghair Nahiñ Kaayenaat Meiñ
Ye Nisbat e Rasool e Mohabbat-Nawaz Hai
कोई भी मेरा गैर नहीं काएनात में
ये निस्बत ए रसूल ए मोहब्बत-नवाज़ है।

 

Sadqa Hai Aapka Ke Woh Hum Se Bhi Hai Qareeb
Warna Khuda-e Paak Bada BeNiyaaz Hai
सदक़ा है आपका के वोह हम से भी है क़रीब
वरना ख़ुदा ए पाक बड़ा बेनियाज़ है।

 

Ai Idda’Aa e Nisbat e Sarkar Hoshiyar!
Kotaahi e Amal Ka Bhala Kya Jawaaz Hai
ऐ इद्दाआ़ ए निस्बत ए सरकार होशियार!
कोताही ए अमल का भला क्या जवाज़ है।

 

Khalid, Agar Mila To Mila Shughl e Naat Se
Maqbool e Baargah e Khuda Jo Gudaaz Hai
ख़ालिद, अगर मिला तो मिला, शुग़्ल ए नात से
मक़बूल ए बारगाह ए ख़ुदा जो गुदाज़ है।

Leave a Reply