TAJALLI E NOOR E KIDAM GHOUS E AAZAM NAAT LYRICS

TAJALLI E NOOR E KIDAM GHOUS E AAZAM NAAT LYRICS

 

Tajalli E Noor e Kidam Ghous E Aazam
Ziya E Sirajuz Zulam Ghous E Aazam

Tera Hil Hai Tera Haram Ghous E Aazam
Arab Tera! Tera Ajam Ghous E Aazam

Wo Ik Vaar Ka Bhi Na Hoga Tumhare
Kaha Hai Mukhalif Me Damm Ghous E Aazam

Tere Hote Hum Par Sitam Dhaye Dushman
Sitam Hai Sitam Hai Sitam Ghous E Aazam

Badhe Housle Dushmano Ke Ghata De
Zara Le Le Teghe Do Dam Ghous E Aazam

Nahi Laata Khatir Me Shaho Ko Shaha
Tera Banda E Be-Diram Ghous E Aazam

Karam Chahiye Tera Tere Khuda Ka
Karam Ghouse Aazam Karam Ghous E Aazam

Karo Pani Ghumn ko Bahaa Do A’alam Ko
Ghataye Badhi Ho Karam Ghous E Aazam

Nazar Aaye Mujhko Na Surat Alam Ki
Na Dekhu Kabhi Ru-e Ghum Ghous E Aazam

Kuch Aisa Guma De Muhabbat Me Apni
Ke Khud Keh Uthu Me Manam Ghous E Aazam

Khuda Rakhe Tumko Hamare Saro Par
Hai Bas Ik Tumhara Hi Dam Ghous E Aazam

Dam-e-Naz’a Sirane Aajao Pyare
Tumhe Dekh Kar Nikle Dam Ghous E Aazam

Dam-e-Naz’a Aao Ke Dam Aaye Dam Me
Karo Humpe Yaseen Dum Ghous E Aazam

Ye Dil Ye Jigar Hai Ye Aankhe Ye Sar Hai
Jaha Chaho Rakhdo Qadam Ghous E Aazam

Tumhari Mahak Se Gali Kuche Mahke
Hai Baghdaad Rashke Iram Ghous E Aazam

Na Palla Ho Halka Hamara Na Hum Ho
Na Bigde Hamara Bharam Ghous E Aazam

Tumhare Karam Ka Hai Noori Bhi Pyasa
Mile Yum Se Isko Bhi Nam Ghous E Aazam

================= Hindi ==============

तजल्ली ए नूर ए क़िदम ए ग़ौस ए आज़म
ज़िया ए सिराज उज़् ज़ुलम ग़ौस ए आज़म

तेरा हिल है तेरा हरम ग़ौस ए आज़म
अ़रब तेरा, तेरा अ़जम ग़ौस ए आज़म

करम आपका है अअ़म ग़ौस ए आज़म
इनायत तुम्हारी अतम ग़ौस ए आज़म

मुख़ालिफ़ हों गो सौ यदम ग़ौस ए आज़म
हमें कुछ नहीं इस का ग़म ग़ौस ए आज़म

चला ऐसी तेग़ ए दो दम ग़ौस ए आज़म
के अअ़्दा के सर हो क़लम ग़ौस ए आज़म

वोह इक वार का भी न होगा तुम्हारे
कहां है मुख़ालिफ़ में दम ग़ौस ए आज़म

तेरे होते हम पर सितम ढाएं दुश्मन
सितम है, सितम है, सितम ग़ौस ए आज़म

कहां तक सुनें हम मुख़ालिफ़ के ताने
कहां तक सहें हम सितम ग़ौस ए आज़म

बढ़े हौसले दुश्मनों के घटा दे
ज़रा ले-ले तेग़ ए दो दम ग़ौस ए आज़म

नहीं लाता ख़ातिर में शाहों को शाहा
तेरा बंदा ए बे-दिरहम ग़ौस ए आज़म

करम चाहिए तेरा तेरे गदा को
करम ग़ौस-ए-आज़म, करम ग़ौस-ए-आज़म

घटा हौसला ग़म की काली घटा का
बढ़ी है घटा दम-ब-दम ग़ौस ए आज़म

बढ़ा नाख़ुदा सर से पानी अलम का
ख़बर लीजिए डूबे हम, ग़ौस ए आज़म

करो पानी ग़म को, बहा दो अलम को
घटाएं बढ़ीं, हो करम ग़ौस ए आज़म

नज़र आए मुझको न सूरत अलम की
न देखूं कभी रूए ग़म ग़ौस ए आज़म

बढ़ा हाथ कर दस्तगीरी हमारी
बढ़ा अब्र-ए-ग़म दम-ब-दम ग़ौस ए आज़म

ख़ुदारा ज़रा हाथ सीने पे रख दो
अभी मिटते हैं ग़म-अलम गौसे आजम

खुदा ने तुम्हें महू-ओ-असबात बख्शा
हो सुल्ताने लौह ओ क़लम ग़ौस ए आज़म

है क़िस्मत मेरी टेढ़ी तुम सीधी कर दो
निकल जाएं सब पेच-व-ख़म ग़ौस ए आज़म

ख़बर लो हमारी के हम हैं तुम्हारे
करो हम पे फ़ज़्ल ओ करम ग़ौस ए आज़म

तुम ऐसे ग़रीबों के फ़रयाद रस हो
के ठहरा तुम्हारा अ़लम ग़ौस ए आज़म

ब-ऐ़न ए इ़नायत ब-चश्म ए करामत
बदा ज़रिया ए ना-चशम ग़ौस ए आज़म

तेरा एक क़तरा अवालम नुमा है
नहीं चाहिए जाम ए ख़म ग़ौस ए आज़म

कुछ ऐसा गुमा दे मोहब्बत में अपनी
के ख़ुद कह उठूं मैं मनम ग़ौस ए आज़म

जिसे चाहे जो दे जिसे चाहे ना दे
तेरे हाथ में है निअ़म ग़ौस ए आज़म

तेरा हुस्न ए नमकीं भरे ज़ख्म दिल के
बना मरहम ए हर दिलम ग़ौस ए आज़म

तरक़्क़ी करे रोज़ ओ शब दर्द ए लज़्ज़त
न हो क़ल्ब का दर्द कम ग़ौस ए आज़म

ख़ुदा रखे तुमको हमारे सरों पर
है बस इक तुम्हारा ही दम ग़ौस ए आज़म

दम ए नज़्अ़ सिरहाने आ जाओ प्यारे
तुम्हें देख कर निकले दम ग़ौस ए आज़म

तेरी दीद के शौक़ में जान जाए
खिंच आया है ऑंखों में दम ग़ौस ए आज़म

कोई दम के मेहमां हैं आ जाओ इस दम
के सीने में अटका है दम ग़ौस ए आज़म

दम ए नज़्अ़ आओ के दम आए दम में
करो हम पे यासीन दम ग़ौस ए आज़म

ये दिल ये जिगर है, ये ऑंखें ये सर है
जहां चाहो रखो क़दम ग़ौस ए आज़म

सर ए ख़ुद ब शमशीर ए अबरू फ़रोशम
ब मिज़़गां तो सीना ए अम ग़ौस ए आज़म

ब बेगान ए तीरत जिगर मी फरोशम
ब तीर ए निगाहत दिलम ग़ौस ए आज़म

दिमाग़म रसद बर सर ए अ़र्श ए आ़ला
ब पायत अगर सर निहम ग़ौस ए आज़म

मेरी सर बुलंदी यहीं से है ज़ाहिर
के शुद ज़ेर ए पायत सरम ग़ौस ए आज़म

लगा लो मेरे सर को क़दमों से अपने
तुम्हें सिर्र ए हक़ की क़सम ग़ौस ए आज़म

क़दम क्यों लिया औलिया ने सरों पर
तुम्हीं जानो इसके हिकम ग़ौस ए आज़म

किया फ़ैसला हक़ ओ बातिल में तुमने
किया हक़ ने तुमको हकम ग़ौस ए आज़म

तुम्हारी महक से गली कूचे महके
है बग़दाद रश्क ए इरम ग़ौस ए आज़म

करम से किया रहनुमा, रहज़नों को
इधर भी निगाहे करम गौसे आजम

मेरा नफ़्स सरकश भी रहज़न है मेरा
ये देता है दम, दम-ब-दम गौसे आज़म

दिखा दे तू इन्नी अ़ज़ूमुन के जलवे
सुना दे स़दा ए मनम ग़ौसे आज़म

मेरे दम को इसके दमों से बचा दे
करम कर, करम कर, करम ग़ौस-ए-आज़म

मैं हूं ना-तवां सख़्त कमज़ोर हद का
हैं जोरों चढ़े इस के दम ग़ौस ए आज़म

न हल्का हो पल्ला हमारा, न हम हों
न बिगड़े हमारा भरम ग़ौस ए आज़म

कहां तक हमारी ख़ताएं गिनेंगे
करें अ़फ़्व सब यक क़लम ग़ौस ए आज़म

हमारी ख़ताओं से दफ़्तर भरे हैं
करम कर के हों कुल अ़दम ग़ौस ए आज़म

तुम्हारे करम का है नूरी भी प्यासा
मिले यम से इसको भी नम ग़ौस ए आज़म

 

 

TATJALLIA EY NOOR FIDAM GHAUS E AZAM NAAT LYRICS

 

Ta’tjalli’a ey Nooré Fidam Ghaus e A’zam
Ziyaaey Siraajo Zulm Ghaus é A’zam

Khabar Lo Hamaari Ke Ham Hain Tumhaare
Karo Ham Pe Fazlo Karam Ghaus e A’zam

Tere Hote Ham Par Sitam Dhaa e Dushman
Sitam Hai, Sitam Hai, Sitam Ghaus e A’zam

Woh eek Waar Ka Bhi Na Hoga Tumhaare
Kahaan Hai Mukhaalif Mein Dam Ghaus e A’zam

Na Palla Hai Halka Hamaara Na Ham Ho’n
Na Bigre Hamaara Bharam Ghaus e A’zam

Khudaara Ab Aao Ke Dam Hai Labon Par
Karo Ham Pé Yaasin, Fidam Ghaus e A’zam

Tumhaare Karam Ka Hai Noori Bhi Pyaasa
Mile djam Se Us Ko Bhi Nam Fidam Ghaus e A’zam

Leave a Reply