Gungunane Ke Liye Salle Ala Kafi He Naat Lyrics | गुंगुनाने के लिए सल्ले आला काफी है नात लिरिक्स

Gungunane Ke Liye Salle Ala Kafi He Naat Lyrics

 

 

GUNGUNANE KE LIYE SALLE ALA KAAFI HAI NAAT LYRICS

Dil Bahelne Ko Madine Ki Hawa Kaafi Hai
Gungunane Ke Liye Salle Ala Kaafi Hai

Dilse Zamzam Ka Agar Ek Hi Qatra Pilo
Theek Hone Ke Liye Bas Ye Dawa Kaafi Hai

Bheek Bharat Ki Hukumat Se Bhala Kyu Mangu
Mujhko Sarkar E Do Aalam Ata Kaafi Hai

Pyare Shabbir Se Zainab Ne Kaha Aye Bhai
Dushmano Ke Liye Asgar Hi Mera Kaafi Hai

Kis Liye Gair Ka Ehsan Uthaun Faizi
Mere Haq Me To Meri Maa Ki Dua Kaafi Hai

 

Sidhe Jannatan Nu Jaawe Daata Peer Di Gali Lyrics

Nit Khair Mangan Sohneya Main Teri Lyrics

Na Sawaal Bann Ke Mila Karo Lyrics

Khula Chishti Khazaana Baba Da Lyrics

 

गुंगुनाने के लिए सल्ले आला काफी है नात लिरिक्स

 

 

गुंगुनाने के लिए सल्ले आला काफी है नात लिरिक्स

दिल बहलने को मदीने की हवा काफी है
गुंगुनाने के लिए सल्ले आला काफी है

दिल से ज़मज़म का अगर एक ही क़तरा पीलो
ठीक होने के लिए बस ये दवा काफी है

भीख भरत की हुकूमत से भला क्यों मांगूँ
मुझको सरकार-ए दो आलम आता काफी है

प्यारे शब्बीर से ज़ैनब ने कहा ऐ भाई
दुश्मनों के लिए अस्गर ही मेरा काफी है

किस लिए ग़ैर का एहसान उठाऊँ फ़ाइज़ी
मेरे हक़ में तो मेरी माँ की दुआ काफी है

 

 

Mamba E Jood O Sakha Khwaja Firozuddin Hain Lyrics

Sukhan Tenu Labhna E Bhaal Karke Lyrics

Mariyam Tere Dar Te Aawan Lyrics

Maikada Ban Gayi Mast Aankhen Lyrics

Eh Sochan Mainu Payiyan Lyrics

Meri Ankhon Ko Bakhshe Hain Aansu Lyrics

Door Rahvein Ya Bhavein Kol Ve Mere Dhol Ve Lyrics

 

Leave a Reply