AL-MADAD PEERAAN-E-PEER GAUS-UL-AAZAM DAST-GEER NAAT LYRICS

AL-MADAD PEERAAN-E-PEER GAUS-UL-AAZAM DAST-GEER NAAT LYRICS

 

 

रुत्बा ये विलायत में क्या ग़ौस ने पाया है
अल्लाह ने वलियों का सरदार बनाया है
है दस्त-ए-‘अली सर पर, हसनैन का साया है
मेरे ग़ौस की ठोकर ने मुर्दों को जिलाया है

अल-मदद, पीरान-ए-पीर ! ग़ौस-उल-आ’ज़म दस्त-गीर !
अल-मदद, पीरान-ए-पीर ! ग़ौस-उल-आ’ज़म दस्त-गीर !

लाखों ने उसी दर से तक़दीर बना ली है
बग़दादी सँवरिया की हर बात निराली है
डूबी हुई कश्ती भी दरिया से निकाली है
ये नाम अदब से लो, ये नाम जलाली है

अल-मदद, पीरान-ए-पीर ! ग़ौस-उल-आ’ज़म दस्त-गीर !
अल-मदद, पीरान-ए-पीर ! ग़ौस-उल-आ’ज़म दस्त-गीर !

हर फ़िक्र से तुम हो कर आज़ाद चले जाओ
ले कर के लबों पर तुम फ़रियाद चले जाओ
मिलना है अगर तुम को वलियों के शहंशा से
ख़्वाजा से इजाज़त लो, बग़दाद चले जाओ

अल-मदद, पीरान-ए-पीर ! ग़ौस-उल-आ’ज़म दस्त-गीर !
अल-मदद, पीरान-ए-पीर ! ग़ौस-उल-आ’ज़म दस्त-गीर !

ग़ौर कीजे कि निगाह-ए-ग़ौस का क्या हाल है
है क़ुतुब कोई, वली कोई, कोई अब्दाल है
दूर है जो ग़ौस से, बद-बख़्त है, बद-हाल है
जो दीवाना ग़ौस का है सब में बे-मिसाल है
दीन में ख़ुश-हाल है, दुनिया में माला-माल है

अल-मदद, पीरान-ए-पीर ! ग़ौस-उल-आ’ज़म दस्त-गीर !
अल-मदद, पीरान-ए-पीर ! ग़ौस-उल-आ’ज़म दस्त-गीर !

मिलने को शमा’ से ये परवाना तड़पता है
क़िस्मत के अँधेरों में दिन-रात भटकता है
इस ‘इश्क़-ए-हक़ीक़ी में इतना तो असर आए
जब बंद करूँ आँखें, बग़दाद नज़र आए

अल-मदद, पीरान-ए-पीर ! ग़ौस-उल-आ’ज़म दस्त-गीर !
अल-मदद, पीरान-ए-पीर ! ग़ौस-उल-आ’ज़म दस्त-गीर !

अंदाज़ बयाँ उन का हम कर नहीं पाएँगे
अजमेर से हो कर हम बग़दाद को जाएँगे
जब आए बला हम पर, हम उन को बुलाएँगे
तुम दिल से सदा तो दो, वो हाथ बढ़ाएँगे

अल-मदद, पीरान-ए-पीर ! ग़ौस-उल-आ’ज़म दस्त-गीर !
अल-मदद, पीरान-ए-पीर ! ग़ौस-उल-आ’ज़म दस्त-गीर !

या ग़ौस ! करम कर दो, या ग़ौस ! करम कर दो
वो दीन की दौलत से दामन को मेरे भर दो
बस इतनी गुज़ारिश है, बस एक नज़र कर दो
बग़दाद की गलियों में छोटा सा मुझे घर दो

अल-मदद, पीरान-ए-पीर ! ग़ौस-उल-आ’ज़म दस्त-गीर !
अल-मदद, पीरान-ए-पीर ! ग़ौस-उल-आ’ज़म दस्त-गीर !

==============ENG ==============

Rutb ye wilaayat me.n kya Gaus ne paaya hai
Allah ne waliyo.n ka sardaar banaaya hai
Hai dast-e-‘ali sar par, hasnain ka saaya hai
Mere Gaus ki Thokar ne murdo.n ko jilaaya hai

Al-madad, peeraan-e-peer ! Gaus-ul-aa’zam dast-geer !
Al-madad, peeraan-e-peer ! Gaus-ul-aa’zam dast-geer !

Laakhon ne usi dar se taqdeer bana li hai
Bagdaadi sanwariya ki har baat niraali hai
Doobi hui kashti bhi dariya se nikaali hai
Ye naam adab se lo, ye naam jalaali hai

Al-madad, peeraan-e-peer ! Gaus-ul-aa’zam dast-geer !
Al-madad, peeraan-e-peer ! Gaus-ul-aa’zam dast-geer !

Har fikr se tum ho kar aazaad chale jaao
Le kar ke labo.n par tum fariyaad chale jaao
Milna hai agar tum ko waliyo.n ke shahansha se
Khwaaja se ijaazat lo, baGdaad chale jaao

Al-madad, peeraan-e-peer ! Gaus-ul-aa’zam dast-geer !
Al-madad, peeraan-e-peer ! Gaus-ul-aa’zam dast-geer !

Gaur keeje ki nigaah-e-Gaus ka kya haal hai
Hai qutub koi, wali koi, koi abdaal hai
Door hai jo Gaus se, bad-baKHt hai, bad-haal hai
Jo deewaana Gaus ka hai sab me.n be-misaal hai
Deen me.n KHush-haal hai, duniya me.n maala-maal hai

Al-madad, peeraan-e-peer ! Gaus-ul-aa’zam dast-geer !
Al-madad, peeraan-e-peer ! Gaus-ul-aa’zam dast-geer !

Milne ko shama’ se ye parwaana ta.Dapta hai
Qismat ke andhero.n me.n din-raat bhaTakta hai
Is ‘ishq-e-haqeeqi me.n itna to asar aae
Jab band karu.n aankhe.n, baGdaad nazar aae

Al-madad, peeraan-e-peer ! Gaus-ul-aa’zam dast-geer !
Al-madad, peeraan-e-peer ! Gaus-ul-aa’zam dast-geer !

Andaaz bayaa.n un ka ham kar nahi.n paaenge
Ajmer se ho kar ham baGdaad ko jaaenge
Jab aae bala ham par, ham un ko bulaaenge
Tum dil se sada to do, wo haath ba.Dhaaenge

Al-madad, peeraan-e-peer ! Gaus-ul-aa’zam dast-geer !
Al-madad, peeraan-e-peer ! Gaus-ul-aa’zam dast-geer !

Ya Gaus ! karam kar do, Ya Gaus ! karam kar do
Wo deen daulat se daaman ko mere bhar do
Bas itni guzaarish hai, bas ek nazar kar do
Bagdaad ki galiyon main Chhota saa mujhe ghar do

Al-madad, peeraan-e-peer ! Gaus-ul-aa’zam dast-geer !
Al-madad, peeraan-e-peer ! Gaus-ul-aa’zam dast-geer !

 

Ghouse Azam Lo Mureedon Ka Salam Lyrics

Mushkil Pade To Yaad Karo Dastagir Ko Lyrics

Aseero Ke Mushkil Kusha Gaus e Aazam lyrics

Al madad ya ghouse Aazam dastageer lyrics

Khila Mere Dil Ki Gali Ghouse Azam Naat Lyrics

Kitna Aala Rutba He Mere Ghouse Azam Ka Naat Lyrics

TERA JALWAH NOOR E KHUDA GHAUS E AZAM LYRICS

KHILA MERE DIL KI KALEE GHAUS E AZAM LYRICS

Dard Mando Ne Pukara Gouse Aazam Dastagir

 

Leave a Reply